भागवंती की कहानी:लॉकडाउन में नौकरी गई तो मात्र 500 रुपए से शुरू किया गृह उद्योग

भागवंती की कहानी:लॉकडाउन में नौकरी गई तो मात्र 500 रुपए से शुरू किया गृह उद्योग

मै शांतिनगर बस्ती में रहती हूं। लॉकडाउन के दौरान पति रमेश महावर की नौकरी बंद हो गई। छुट्टी मजदूरी भी नहीं मिल रही थी। तभी भोजन बांटने आई ममता दीदी से कुछ काम दिलाने की बात की। उन्होंने कहा घर में ही काम शुरू कर दो। उन्होंने आसपास की कुछ और महिलाओं को जोड़कर ग्रुप बनाया और हमें पापड़, बड़ी, चावल के पापड़, चिप्स, अचार, सिलाई जैसे कई तरह के कामों की ट्रेनिंग दी। इसके…

और पढ़े..

अभावों से जूझकर मुकाम पाने वाली हिना:घर खर्च चलाने मां घरों में काम करती थीं

अभावों से जूझकर मुकाम पाने वाली हिना:घर खर्च चलाने मां घरों में काम करती थीं

बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन की कथक नृत्यांगना हिना वासेन किसी पहचान की मोहताज नहीं है। कथक के क्षेत्र में उनका नाम शिद्दत के साथ लिया जाता है। गरीब परिवार में पैदा हुई हिना के लिए सामान्य लड़की से कथक डांसर बनने का सफर आसान नहीं रहा। इस बीच कई बाधाएं आई। सबसे बड़ी बाधा थी गरीबी। बावजूद उन्होंने कभी हार नहीं मानी। हालातों से जूझते हुए हिना नया मुकाम बना चुकी हैं। देश-विदेश में…

और पढ़े..

ये कैसा टीकाकरण:71 साल का बुजुर्ग हूं, पांच घंटे से बैठा हूं,

ये कैसा टीकाकरण:71 साल का बुजुर्ग हूं, पांच घंटे से बैठा हूं,

दिन बुधवार, समय दोपहर 2.30 बजे। स्थान-माधवनगर अस्पताल वैक्सीन सेंटर। सेंटर के गेट पर खड़े बुजुर्ग। अंदर जाने के लिए मशक्कत। अस्पतालकर्मी ने उन्हें यह कहते हुए रोक दिया कि अभी अंदर भीड़ है, आप लोग अंदर सेंटर में नहीं जा सकते। आधे घंटे बाद यानी दोपहर 3 बजे सेंटर का गेट बंद कर दिया गया। गेट पर मौजूद महिला कर्मचारी से बुजुर्गों ने गुहार लगाई कि अपनी बारी के इंतजार में सुबह 10 बजे…

और पढ़े..

बेहतर परिणाम के लिए दो स्कूलों में स्मार्ट क्लासेस, दो घंटे नि:शुल्क कोचिंग भी

बेहतर परिणाम के लिए दो स्कूलों में स्मार्ट क्लासेस, दो घंटे नि:शुल्क कोचिंग भी

उज्जैन | शहर के दो सरकारी स्कूलों में भी प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ाई होगी। साथ ही व्यवस्थित वाचनालय भी होगा। इसके लिए सरकार की ओर से मदद नहीं आई बल्कि संस्थाएं आगे आई हैं। इन संस्थाओं का लक्ष्य है कि सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को शिक्षा का ऐसा माहौल और सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए कि वे उत्कृष्ट और कॉन्वेंट स्कूलों से अच्छे परिणाम दे पाएं। सरकारी स्कूलों में शैक्षणिक उन्नयन प्रकल्प योजना के तहत…

और पढ़े..

वी.वी.आई.पी. कल्चर राजशाही का प्रतीक….लाल बत्ती पर रोक अच्छा कदम..!

वी.वी.आई.पी. कल्चर राजशाही का प्रतीक….लाल बत्ती पर रोक अच्छा कदम..!

केंद्र सरकार ने अपने मंत्रियों  की कार पर लाल बत्ती लगाने  पर  रोक लगा दी है, यह एक स्वागत योग्य निर्णय है।हमारे देश में वी वी आई पी वाद इस कदर हावी हो चुका है कि इस सुविधा को प्राप्त करने वाले लोग खुद को खुदा से कम नहीं समझते हैं, इंसान व इंसान में भेद करने वाला यह वीआईपी कल्चर खत्म होना ही चाहिए। अभी तो लाल बत्ती बन्द की है,फिर भी अभी बहुत…

और पढ़े..

छुट्टियों की छुट्टी….चली योगी आदित्यनाथ की बुद्धि…।

छुट्टियों की छुट्टी….चली योगी आदित्यनाथ की बुद्धि…।

किसी भी सरकार के निर्णयों में यदि कमियां या विसंगतियां होती है तो हम मिडिया वाले सरकार की बखियां उखाड़ने मे कोई कसर नहीं छोड़ते।लेकिन सरकार के अच्छे निर्णयों या कार्यों की खुल कर प्रशंसा करने में कंजूसी कर जातें हैं।शायद इसलिए कि ऐसा करने से उन्हें सरकार का पिट्ठू न समझ लिया जाय।लेकिन मेरा मत यह है कि अगर हम सरकार के बुरे कार्यों की खुल कर आलोचना करते हैं तो अच्छे कार्यों की…

और पढ़े..

आतंकवाद के खिलाफ सिर्फ कहना नहीं करना भी है !

आतंकवाद के खिलाफ सिर्फ कहना नहीं करना भी है !

अमेरिका ने यह जता दिया है कि वह आतंकवाद के खिलाफ केवल कहेगा नहीं करेगा भी सही।   उसने  अफगानिस्तान के उस इलाके पर गैर परमाणु हमला किया है जो isis के प्रमुख आतंकी ठिकाने थे। इस हमले में सबसे बड़े बम को गिराकर विश्व समुदाय के समक्ष अमेरिका ने अपने इरादे स्पष्ट कर दिए हैं।अब उनसे उन्हीं की भाषा में बात होगी।दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है ,भारत और अमेरिका दोस्ती के इसी छोर पर…

और पढ़े..